Poet Ashok Kumar Verma

Ashok Kumar Verma

Ashok Kumar Verma Poems

  • 1.  
    चले आते हैं परवाने शमा जब रौशन होती है
    जल जाते हैं साथ वो भी मौहब्बत जो होती है
    अंजाम जानने की चाह न दोस्तो मौहब्बत में होती है
    कर देती है जुदा खुद से आलम में जब वो जवानी के होती है
    ...
  • 2.  
    गैरों की कहाँ थी - ज़ुर्रत मुझे गिराने की
    पहले अपनों ने निकाली - ईंट मेरे आशियाने की
    -: अशोक कुमार वर्मा :-

    ...
Total 2 poems written by poet Ashok Kumar Verma


Write your comment about Ashok Kumar Verma


Poem of the day

Emily Dickinson Poem
Split the Lark—and you'll find the Music
 by Emily Dickinson

861

Split the Lark—and you'll find the Music—
Bulb after Bulb, in Silver rolled—
Scantilly dealt to the Summer Morning
Saved for your Ear when Lutes be old.

Loose the Flood—you shall find it patent—
...

Read complete poem

Popular Poets